Wednesday, 2 July 2014

युवा शक्ति

मनुष्य जीवन की हर अवस्था की सुन्दर है किन्तु युवावस्था की हर बात ही कुछ और होती है ये उम्र जिम्मेदारी के साथ जीवन की उन उपहारों से भरा होता है जो कुदरत मनुष्य को अपने आप प्रदान कर देती है जैसे स्वस्थ शरीर| इस उम्र की ताकत का गुणगान हमारा शास्त्र भी करता है विश्वामित्र जी स्वयम में शस्त्र के ज्ञाता थे किन्तु उन्होंने राम लक्ष्मण को तड़का वध को चुना उन्होंने तो दशरथ को भी चलने मना कर दिया इस शक्ति को पाकर हर व्यक्ति सोचता है ये कभी नहीं जाये वास्तव ये शक्ति इतनी ताकत ताकत रखती है ये चाहे तो इतहास बदल दे धरती का नक्शा ही बदल दे किन्तु इसे सही सही मार्गदर्शन की आवश्कता पड़ती है गलत संस्कारो में ये खुद के साथ साथ सब कुछ ही नष्ट कर देती है आज मेरी देश की दुर्गति का कारण यही है युवा शक्ति को आदर्श फिल्मो के नायक मिलते हैं जो लड़की को छेड़ते है कभी मेरे हिन्दुस्तान के युवाओ का आदर्श राम होता था मस्ती के लिए युवा साधू के अखाड़े में जाते थे वहां महात्मा समझाते थे रामचरितमानस में मेघनाथ को लक्ष्मण को इसलिए मार पाया क्योकि वो तेरह साल से एक योगी का जीवन जी रहा था मै आर्य समाज के आश्रम में रह कर पढ़ी हूँ वहां का जीवन देखा और जिया है मैंने| वहां पर पहलवान लड़की भी देखि है इसलिए मै मान नहीं सकती की लड़की भी कमजोर हो सकती है फिर एक लड़के की तो बात ही कुछ और है पर उसको कुदरत के उपहार को पाने के लिए साधना करना पड़ेगा उसको भारतीय जीवन शेली से प्रेम करना होगा अपने शास्त्रों के एक गूढ़ गूढ़ रहस्य को समझना होगा समझना होगा मन को वैराग्य का स्वाद चखाना होगा अपने जीवन का लक्ष्य निर्धारित करना होगा

1 comment: