Wednesday, 2 April 2014

माटी

कुदरत जब चाक पर माटी घुमाती
माटी से नए प्राणी के पुतले बनाती
कुदरत की रचना ये माटी के पुतले 
माटी पर पलते निखरे उजले 
कुदरत जब  इन पुतलो को भट्टी में पकाती
कोई कम कोई मध्यम कोई ज्यादा पक जाती 
जो माटी के पुतले कम पक पाते 
जरा सी ठोकर में वे टूट जाते 
जो थोडा सा और पक जाते 
जिंदगी को हँसते रोते जी जाते 
जो पूरी तरह से पक जाते 
इस दुनिया को कर्मो से रोशन कर जाते 
माटी के पुतलो में जान डाली 
पुतलो ने माटी से कई रचना बना  डाली
माटी को जब पुतले भट्टी में पकाते 
सुंदर लाल सी ईटो के ढांचे बनाते 
माटी को जब ये चाक पर चढाते 
तरह तरह के बर्तन बनाते 
माटी पर जब हल चलाते
माटी से ये अन्न पा जाते 
एक ही माटी की है सब रचना 
माटी को बाँट देश बनाया अपना 
माटी के अंदर अनेक खजाने 
जल सोना चाँदी हीरे की खाने 
माटी कहती अनगिनत कहानी 
आज, कल और सदियों पुरानी
माटी कहती अपनी आत्म कथा 
उसमे झलकती उसकी व्यथा 
इसी के पुतले इसको गन्दा कर जाते 
इसमें पैदा,पलते और मिल जाते 
माटी का यह जगत है सारा 
फिर भी है यह कितना प्यारा 
माटी सबकी जननी बनी है 
इसलिए माता समान पूजनीय है

No comments:

Post a Comment